आप यहाँ हैं

नेत्रावती नदी के बदलते रुख के पीछे क्या कारण है ?

  • Photo : The Netravati River by Arjuncm3 [CC BY-SA 3.0 ], from Wikimedia Commons

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई के शोध अध्ययन के अनुसार बढ़ता शहरीकरण और बढ़ती कृषि, वर्षा जल अपवाह और मिट्टी के संचलन को बदलती है

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के दौरान, कर्नाटक के दक्षिण में,  नेत्रावती नदी, ऐतिहासिक रूप से बंटवाल नामक नदी में बाढ़ आना एक सामन्य बात है। जब भी नदी मे पानी का स्तर बढ़ता है, बैंटवाल शहर के मूल निवासी अब भी १९७४  के विनाशकारी बाढ़ के डर को याद करते हैं, ऐसा ही हाल,  २०१३ और २०१५ में हुआ था और इस साल फिर २०१८ में हुआ। प्रश्न उठता है कि क्या वर्षा में बदलाव, नदी मे पानी के स्तर मे बदलावों का कारण है? भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई के एक हालिया अध्ययन में कहा गया है कि नेत्रावती नदी बेसिन में भूमि उपयोग पैटर्न को एक महत्वपूर्ण कारण के रूप में देखा जा सकता है।

पर्यावरण सम्बन्धी  पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन से पता चलता है कि नेत्रावती बेसिन में शहरीकरण, वर्षा जल निकासी में वृद्धि और मिट्टी के नीचे की ओर जाने का प्राथमिक कारण है। उन्होने १९७२ से शुरू करके अलग-अलग समय पर विश्लेषण किया है और मिट्टी और जल मूल्यांकन उपकरण नामक एक मानक मॉडल का उपयोग करके २०३०  के लिए एक अनुमानित परिदृश्य का विश्लेषण किया। इस शोध कार्य को भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा वित्तीय सहायता दी गयी है।

नेत्रवती नदी, जो पश्चिमी घाट से  निकलती है और मैंगलोर ओर बंटवाल के शहरों के लिए पेयजल का प्राथमिक स्रोत है। आईआईटी बॉम्बे में सिविल अभियांत्रिकी विभाग के प्राध्यापक एल्दो टी.आई., जो इस अध्ययन के लेखक भी है, कहते हैं कि, "लगभग १२ लाख लोग नेत्रावती बेसिन में रहते हैं, और यह संख्या वर्ष २०३० तक दोगुनी से अधिक होने की उम्मीद है। भविष्य में परिवर्तन के प्रभाव का अध्ययन भविष्य में कृषि-व्यवस्था एवं  भविष्य में जल संसाधनों को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है"।

पानी की उपलब्धता आस-पास की भूमि का उपयोग , और भूमि की सतह  पर निर्भर करती है । भूमि-उपयोग या भूमि-सतह  में किसी  भी परिवर्तन संयंत्र की सतह, ऊंचाई, और ढलान जैसे गुणों  को प्रभावित करता है, जिसके कारण वर्षा जल निकासी और जल प्रवाह प्रभावित होते  हैं। उदाहरण के लिए, शहरीकरण में वृद्धि ने ‘वाटरटाइट कंक्रीट कवर’ में वृद्धि की है जिस कारण  ज़मीन में वर्षा जल की रसाव कम हो जाता है। इस प्रकार, पीने, सिंचाई और अन्य प्रयोजनों के लिए भू-जल पर निर्भर लोग इस क्षेत्र में पानी की कमी का सामना करते हैं।

अध्ययन में १९७२ में शहरी क्षेत्र में लगभग ६० वर्ग किमी से २०१२ में २४० वर्ग किलोमीटर से चार गुना वृद्धि हुई है और परियोजनाओं यह है कि  २०३० तक ३४० वर्ग किलोमीटर तक बढ़ सकती है। तेजी से बढ़ते शहरीकरण के साथ बाढ़ का खतरा भी बढ़ता है ओर यह प्रतिकूल रूप से भूजल उपलब्धता को प्रभावित करता  और  कृषि उत्पादकता में कमी का कारण बनता है।

अध्ययन में यह भी कहा गया है कि बेसिन विशेषताओं में बदलाव के लिए कृषि क्षेत्र का बढ़ाना दूसरा प्रमुख कारण है। १९७२ से २०१२ तक कृषि क्षेत्र में लगभग १५% की वृद्धि हुई है और २०३० तक २४% तक बढ़ने का अनुमान है। इसके विपरीत, वन क्षेत्र में लगातार कमी आई है जिसके परिणामस्वरूप इसी अवधि के दौरान वनों की कटाई का १८% हुई है। अध्ययन में २०३० तक वन क्षेत्र में लगभग २६% की गिरावट की भविष्यवाणी की गयी है।

"शहरी विस्तार मुख्य रूप से मैंगलोर शहर के आसपास नदी क्षेत्र के डाउनस्ट्रीम विस्तार पर पाया जाता है। कृषि में अधिकतम परिवर्तन पूर्वी भागों में और शहरी क्षेत्रों के पास नदी के किनारे के निचले भाग में देखा गया है। अध्ययन के निष्कर्षों पर प्रोफेसर एल्डो ने कहा कि, “शहरी भूमि में हुए बदलावों के प्रभाव २०३० तक जारी रहने की उम्मीद है।”

एक उभरते पानी संकट के चलते, शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि नदी क्षेत्र में पानी का बेहतर प्रबंधन करने के लिए उनके प्रभावों का उपयोग किया जा सकता है। वे ऐसी प्रबंधन योजनाओं का समर्थन  करते हैं जिनमें भूमिगत उपयोग और भूमि कवर परिवर्तनों के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए महत्वपूर्ण प्रभावित क्षेत्रों में वनीकरण शामिल है। प्रो. एल्डो कहते हैं, "मैंगलोर, बंटवाल और पुट्टूर जैसे क्षेत्रों में उपयुक्त प्रबंधन योजना भी आवश्यक है जहां निकट भविष्य में कृषि और शहरीकरण में अधिकतम वृद्धि की उम्मीद है। इसके अलावा, नेत्रावती बेसिन के कम आबादी वाले क्षेत्रों में पानी की कमी और गुणवत्ता के मुद्दों से निपटना महत्वपूर्ण है।"

लेखकों का दावा है कि इस अध्ययन में प्रस्तावित पद्धति को बेहतर जल संसाधन प्रबंधन योजनाओं के लिए अन्य नदी घाटियों  में  भी लागू किया जा सकता है। भविष्य में शोधकर्ता इन प्रश्नों    का उत्तर देने के लिए अध्ययन का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं कि  किन  गतिविधियाँ से  वर्तमान या भविष्य में, भूमि-उपयोग  अथवा जलवायु परिवर्तन  पश्चिमी घाटों के  नदी क्षेत्रों  को प्रभावित करता है?’ शोधकर्ता क्षेत्र में अनुकूल जल संसाधन प्रबंधन के लिए उपयुक्त प्रबंधन योजना विकसित करने का प्रयास  कर रहे हैं।