Contribute to Calamity Relief Fund

Several parts of Karnataka, Kerala and Maharashtra are inundated by floods. This has gravely affected life and property across. The respective governments need your support in reconstructing and restoring life back to normalcy. We encourage you to do your bit by contributing to any of these funds:

Government of India | Karnataka | Kerala | Maharashtra

आप यहाँ हैं

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई के प्राध्यापक अमित अग्रवाल को तरल यांत्रिकी (फ्लुइड मैकेनिक्स) पर उनके काम के लिए शांति स्वरुप भटनागर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Read time: एक मिनट
  • आरेदथ सिद्धार्थ, नंदिनी भोसले, हसन कुमार गुंडू, कम्युनिकेशन डिझाईन , आइ डीसी, आइ आइ टी मुंबई
    आरेदथ सिद्धार्थ, नंदिनी भोसले, हसन कुमार गुंडू, कम्युनिकेशन डिझाईन , आइ डीसी, आइ आइ टी मुंबई

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई (आईआईटी बॉम्बे), यांत्रिक अभियांत्रिकी  विभाग के प्राध्यापक अमित अग्रवाल को वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) द्वारा  दिए जाने वाले शांति स्वरुप भटनागर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार माइक्रोफ्लुइडिक उपकरणों में प्रयोगात्मक, सैद्धांतिक और संख्यात्मक काम सहित फ्लूइड मैकेनिक्स के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

शांति स्वरुप भटनागर पुरस्कार (एसएसबी) देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है। इसका नाम सीएसआईआर के संस्थापक निदेशक, शांति स्वरुप भटनागर के नाम पर रखा गया है और इसमें पाँच लाख रूपये पुरस्कार राशि और उद्धरण पट्टिका शामिल है। प्राध्यापक अग्रवाल उत्साह के साथ कहते हैं, "पुरस्कार जीतने से मुझे बहुत संतोष दिया गया है, क्योंकि यह हमारे शोध के दृष्टिकोण और प्रयासों को मान्यता देने में मदद करेगा। यह मेरे परिवार के अविश्वासित समर्थन और मेरे शोध समूह में छात्रों की कड़ी मेहनत के बिना नहीं हुआ होता। इसलिए, मैं यह पुरस्कार उन्हें समर्पित करना चाहता हूँ ।” प्राध्यापक अग्रवाल के काम में द्रव गतिशीलता के व्यापक दायरे में माइक्रोफ्लुइडिक्स और टर्बुलेन्स प्रवाह के क्षेत्रों को शामिल किया गया है। माइक्रोफ्लुइडिक्स आकार में एक मिलीमीटर से कम छोटे चैनलों के माध्यम से तरल पदार्थ के प्रवाह का अध्ययन है, और टर्बुलेन्स प्रवाह, प्रवाह और वेग में अव्यस्थित परिवर्तनों के कारण तरल गति के समय के साथ बदलाव के साथ संबंधित है।

प्राध्यापक अग्रवाल, अपने छात्रों के साथ, कुछ जटिल समस्याओं को हल करने के लिए द्रव गतिकी के अपने सैद्धांतिक और प्रयोगात्मक ज्ञान का उपयोग कर रहे हैं। प्राध्यापक अग्रवाल बताते हैं कि, "प्रवाह सम्बंधित समस्याएं हर जगह हैं - हमारे अंदर खून का प्रवाह, हमारे चारों ओर हवा का प्रवाह, मौसम मॉडलिंग और अन्य औद्योगिक अनुप्रयोग आदि इसके अनेक उदाहरण है। हमारे शोध कार्य में, हम गणितीय समीकरणों को समझने की कोशिश कर रहे हैं जो चिपचिपे तरल पदार्थ (नेवियर-स्टोक्स समीकरण) की गति का वर्णन कर सकें और ऐसी समीकरणे भी व्युत्पन्न कर रहे है जो उच्च ऊंचाई पर  उड़ने वाले विमान, माइक्रोचैनल में गैस प्रवाह, और अन्य उच्च नुदसेन (Knudsen) संख्या पर लागू हो सके। सैद्धांतिक तरल गतिविज्ञान, द्रव गतिकी की रीढ़ की हड्डी है क्यूँकि  यह तरल प्रवाह की समस्याओं के समाधान के लिए आवश्यक समीकरण देती है।"

प्राध्यापक अग्रवाल  के शोध समूह ने जैविक अनुप्रयोगों के लिए कई सूक्ष्म उपकरण विकसित किए हैं। उदाहरण के लिए, रक्त से प्लाज्मा को अलग करने के लिए एक सरल, सिक्के के आकार का उपकरण बनाया है जिसे विकसित करने में,  प्रयोगशाला का बहुत कम जगह का उपयोग हुआ  है। यह दृष्टिकोण एक बड़ी जगह का उपयोग करने वाली तकनीकों की तुलना में अधिक सटीक, उपयोग करने में आसान और तेज़ है। एक पुणे आधारित स्टार्टअप, एम्ब्रीयो बायोमाइक्रोडिवाइस प्राइवेट लिमिटेड ने नेस्ता, ब्रिटेन द्वारा दिया जाने वाला "लोंगिट्यूड डिस्कवरी"  पुरस्कार जीता, और अब इस स्टार्टअप के माध्यम से इसका व्यावसायीकरण किया जा रहा है। उन्होंने जैविक नमूने के साथ काम करने के लिए निरंतर तापमान को बनाए रखने के लिए अन्य अत्याधुनिक अभिनव सूक्ष्म उपकरण विकसित किए हैं, और कोशिकाओं के गुणों का अध्ययन करने के लिए कोशिकाओं के त्रि-आयामी शोध के लिए  लिए एक सूक्ष्म उपकरण विकसित किया है।

प्राध्यापक अग्रवाल और उनकी टीम ने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को ठंडा करने के लिए सिंथेटिक जेट और माइक्रोचैनल पर भी काम किया है। एक सिंथेटिक जेट हवा की एक अशांत टर्बुलेन्स है जिसे डायाफ्राम को स्थानांतरित करके वैकल्पिक रूप से सोखकर, छोटे छेद से निकाला जाता है। हवा के जेट की इस स्पंदनात्मक प्रकृति को बहुत कम इनपुट पावर की आवश्यकता होती है लेकिन स्थानीय शीतलन की अच्छी मात्रा प्राप्त करने में मदद मिलती है। माइक्रोचैनल-आधारित शीतलक उपकरणों, दूसरी तरफ, माइक्रोन के आकार के मार्गों में पानी (या एक अन्य शीतलक) का प्रवाह शामिल होता है, और इसकी सतह के बढ़ते, सतह क्षेत्र के अनुपात में गर्मी को गर्म सतह से हटा देता है।

प्राध्यापक अग्रवाल की टीम के अन्य सिमुलेशन-आधारित अध्ययनों में से एक, कि कैसे तरल पदार्थ में विसर्जित वस्तुएं एक-दूसरे को प्रभावित करती हैं-उड़ती पक्षियों या विमानों के समूह से संबंधित स्थिति का अध्ययन करना शामिल है। अब तक, उनके शोध कार्यो से लगभग एक दर्जन पेटेंट और १५० से ज्यादा लेख, अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं  में प्रकाशित हो चुके है। २० से अधिक छात्रों को पीएचडी कराने के अलावा, पोस्ट डोक्टरल शोधकर्ताओं, प्रोजेक्ट कर्मचारियों और प्राध्यापक अग्रवाल तीन प्रतिष्ठित पत्रिकाओं के संपादकीय बोर्ड में भी शामिल है। वह इंडियन नेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग (आईएनएई) और नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज इंडिया (नासी ) के निर्वाचित सदस्य भी हैं।