आप यहाँ हैं

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई के प्राध्यापक चंद्र ए.म. आर वोला को उत्प्रेरण पर उनके काम के लिए राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, भारत द्वारा दिए जाने वाले युवा वैज्ञानिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

  • आरेदथ सिद्धार्थ, नंदिनी भोसले, हसन कुमार गुंडू, कम्युनिकेशन डिझाईन , आइ डीसी, आइ आइ टी मुंबई
    आरेदथ सिद्धार्थ, नंदिनी भोसले, हसन कुमार गुंडू, कम्युनिकेशन डिझाईन , आइ डीसी, आइ आइ टी मुंबई

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई के रसायन विज्ञान विभाग में  प्राध्यापक, चंद्र ए.म. आर वोला को रासायनिक विज्ञान के क्षेत्र में उनके शोध के लिए २०१८ का राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, भारत का युवा वैज्ञानिक पुरस्कार सम्मानित किया गया है। उनका काम उत्प्रेरण के रूप में संदर्भित घटक के उपयोग से रासायनिक प्रतिक्रिया में तेजी लाने की प्रक्रियासे संबंधित है। यह पुरस्कार उन्हें अन्य तीन वैज्ञानिकों  के साथ सयुंक्त रूप से मिला है।

श्री चंद्र ए.म. आर वोला, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई के रसायन विज्ञान विभाग में प्राध्यापक के रूप में नियुक्त है। भारत के नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा स्थापित यह पुरस्कार, भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की किसी भी शाखा में अपनी रचनात्मकता और उत्कृष्टता को पहचानकर शोधकर्ताओं को सम्मानित करता  है। पुरस्कार में उद्धरण, एक पदक और २५,००० रूपये की धनराशि दी जाती है। २००६ से अब तक, भारत भर में १४३ शोधकर्ताओं ने यह प्रतिष्ठित सम्मान जीता है।

प्राध्यापक वोला और उनकी टीम ने नया एवं अत्यधिक कुशल शोध कार्य किया है जो क्विनोलिन व्युत्पन्न के संश्लेषण हेतु अणुओं का निर्माण करने के लिए उत्प्रेरक के रूप में तांबा का उपयोग करती हैं। क्विनोलिन कई दवाइयों में एक आवश्यक घटक के रूप में प्रयोग होता है। इस प्रकार, टीम ने रोहड्यम (Rhodium) (II) का उपयोग बेंजाक्साज़िनोन्स और ऑक्साडियाज़ोल के संश्लेषण के लिए उत्प्रेरक के रूप में एक सुविधाजनक और सरल विधि विकसित की जो दवा उद्योग में उनके एंटीवायरल और उत्तेजकहीन गुणों के लिए अनुप्रयोग ढूंढती है। ये नई विधियाँ  रासायनिक प्रतिक्रियाओं के दौरान खतरनाक अपशिष्टों के उत्पादन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं जिससे नव रसायन शास्त्र के लिए अधिक अवसर पैदा हो सकेंगे।

प्राध्यापक वोला कहते हैं कि, "हेट्रोसायक्लीक व्युत्पन्न (डेरिवेटिव्स) के संश्लेषण के लिए नए तरीकों का विकास करना हमारे काम का मुख्य केंद्र रहा है।” हेटरोक्साइक यौगिक अंगूठी संरचित अणु हैं जो कार्बन और हाइड्रोजन के अलावा अन्य तत्वों के साथ उपस्थित रहते हैं। जिनका औषधीय रसायन शास्त्र के क्षेत्र में उपयोग किया जाता है। उन्होंने अपने शोध के विस्तार के बारे में बात करते हुए कहा कि, "रासायनिक मॉडल की मूल प्रतिक्रियाशीलता का अध्ययन करने के लिए शैक्षणिक हितों पर तरीकों को पूरी तरह विकसित किया गया है।”

प्राध्यापक वोला इस सफलता को अपने समूह का आभार व्यक्त करते हैं, साथ ही साथ पुरस्कार के लिए राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी समिति का धन्यवाद करते है। वे बताते है कि, "मैं अक्टूबर २०१४ में आईआईटी बॉम्बे में शामिल हुआ, और तब से अब तक, यह यात्रा उत्कृष्ट रही है ओर इसका सब श्रेय मेरे समूह को जाता है। मैं इस पुरस्कार को अपने छात्रों के लिए एक जीत के रूप में देखता हूं।”

हालांकि, प्राध्यापक वोला का वर्तमान शोध कार्य शैक्षिक कार्यों  तक ही सीमित है जिसे वे आने वाले सालों में अधिक मजबूत बनाना चाहते है। "हमारी प्रयोगशाला में गतिविधियों का मूल विषय उत्प्रेरण है। हम उन मुद्दों को हल करने के लिए सहयोग के माध्यम से अनुसंधान करना चाहते हैं जिन्हें लंबे समय तक उत्प्रेरण का उपयोग करने के लिए हल नहीं किया गया है", वह अपने काम की भविष्य की दिशा पर कहते हैं।

ऐसा एक अनुप्रयोग अनुसंधान रासायनिक प्रतिक्रियाओं के अनुकूल क्षेत्र में है, जहां यह एक ऐसी विधि विकसित करना चाहता है जो चरणों की संख्या को कम कर दे।

"प्रतिक्रिया में कई कदम एक विशेष यौगिक को संरक्षित नहीं करते हैं और प्रत्येक चरण में अपशिष्ट भी उत्पन्न करते हैं। इस प्रकार, परिणामी उत्पादों को प्रत्येक चरण में शुद्ध किया जाना चाहिए क्योंकि यह कचरा एक पर्यावरणीय खतरे के रूप में बढ़ता है। मैं यह देखना चाहता हूं कि हम इन चरणों को कैसे कम  कर सकते हैं क्योंकि यह उद्योग और विज्ञान  दोनों के लिए फायदेमंद है", प्रोफेसर वोला ने बताया।