Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

हिमालय की बर्फ धीमी गति से पिघल रही है जिसके कारण समुद्र अरब सागर में चमकीली अल्गल फल फूल रही है।

Read time: एक मिनट
हिमालय की बर्फ धीमी गति से पिघल रही है जिसके कारण समुद्र अरब सागर में चमकीली अल्गल फल फूल रही है।

अगस्त 2019 में चेन्नई के समुद्र तटों के पास नॉक्टिलुका के प्लवक खिलने के रंग बिरंगे प्रदर्शनों के गवाह बने जिससे अंधेरे में एक सुंदर चमकीला नियोन नीला रंग दिखा । इन नन्हें  प्राणियों की जीवदीप्ति से प्रेरित होकर लोगों ने रंग बिरंगी लहरों के नृत्य को तस्वीरों और वीडियो रूप में इसे साझा किया। लेकिन यह  समुद्र की चमक  (नोक्टिलुका स्किन्टिलन)  खुशी का कोई कारण नहीं है क्योंकि वे इस बात का एक गंभीर संकेत हैं कि जलवायु परिवर्तन हमारे महासागरों को कैसे प्रभावित कर रहे हैं। और हाँ हाल के वर्षों में नोक्टिलुका ने सबसे आम प्लवक जिसे समुद्र में डायटम के रूप में जाना जाता है, कि जगह ले ली है  जिससे पानी में ऑक्सीजन का स्तर कम हो जाता है। उल्लेखनीय  है कि हाल के एक अध्ययन से पता चला  है कि यह घटना ग्लोबल वार्मिंग के कारण विशालकाय हिमालय की  पिघलती हुई  बर्फ से जुड़ी हो सकती है।

कोलंबिया विश्वविद्यालय, यूएसए के शोधकर्ताओं द्वारा साइंटिफिक रिपोर्ट्स नामक जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन से पता चलता है कि हिमालयी-तिब्बत के पठार में बर्फ के आवरण के ह्रास से पहाड़ों की ओर से बहने वाली हवाएँ अधिक गर्म और आर्द्र हो रही हैं। जिससे ये हवाएँ, उत्तरी अरब सागर की सतह के पानी को गर्म करती हैं और पानी को अलग-अलग तापमान में परतों में विभाजित करती हैं और गहरे पानी में उपस्थित पोषक तत्वों के संचार को रोकती हैं। यह स्थिति केवल एक ही अल्गल प्रजाति, नोक्टिलुका सिंटीलन के अनुकूल है।

“भारतीय समुद्रों में नोक्टिलुका के फलने में लगभग एक दशक से वृद्धि हो रही है,”सुश्री माही मनकेश्वर कहती हैं।, । वह एक समुद्री शोधकर्ता हैं जो अरब सागर में होने वाले पोषण के परिवर्तनों को समझने में रुचि रखती हैं  और जो इस अध्ययन में शरीक नहीं थी । "यह केवल इन अधिक दृश्य घटनाओं के कारण हो रहा है, जैसे कि मछलियों का मरना या जीव दीप्ति, कि हम तेजी से बदलते जलवायु के परिणामों की ओर हमारा ध्यान जा रहा है ।”

पादप प्लवक ज्यादातर सूक्ष्म, एकल-कोशिका वाले जीव हैं जो पानी में निलंबित रहकर जीते हैं। वे कार्बन डाइऑक्साइड लेते हैं और सूरज की ऊर्जा का उपयोग कर अपना भोजन बनाते हैं, जैसे  कि पौधे जमीन पर करते हैं। इसलिए वह ऊर्जा उत्पादकों के रूप में खाद्य श्रृंखला में सबसे नीचे हैं, और बाकी समुद्री जीवन के  भोजन की आपूर्ति करते हैं - छोटी मछलियों से लेकर शार्क जैसे विशाल शिकारियों तक, इनमें से कोई भी अपना भोजन नहीं बना सकता है।

तथापि , नोक्टिलुका  जैसे कुछ पादप प्लवक, न केवल अपना भोजन बनाते हैं, बल्कि अपने चारों ओर अन्य प्लवक, छोटे अंडे और पौष्टिक पदार्थों   को भी मार  डालते  हैं जिससे वह स्तरीकृत और पोषक तत्वों की कमी वाले पानी में जीवित रह पाते  हैं। पानी की गर्म पोषक तत्वों की कमी वाली परत समुद्र की सतह पर तैरती है जबकि  शीतल पोषक तत्वों से भरपूर पानी गहराई में  रहता है। इस वजह से ऊपरी परतों के  पादप प्लवक को विकसित होने के लिए नाइट्रोजन और फॉस्फेट जैसे आवश्यक पोषक तत्व नहीं मिलते हैं। लेकिन यह वातावरण नोक्टिलुका के लिए एकदम सही है, जो अन्य प्लवकों को खा सकता है और नाइट्रोजन की कमी वाले पानी में जीवित रह सकता है।

“ ये असाधारण बदलाव, मिक्सोट्रॉफ़, नोक्टिलुका सिंटीलन  के लिए विशेष रूप से अनुकूल एक आला बनाने के लिए दिखाई देते हैं, जिसने हाल ही में प्रमुख शीतकालीन खिलने वाले जीव के रूप में, डायटम की जगह  ले ली  है, " अध्ययन के शोधकर्ताओं का कहना है।

गर्माती हुई जलवायु के कारण हिमालय-तिब्बती पठार में घटते हिम-आवरण ने आमतौर पर ठंडी उत्तर-पूर्वी हवाओं को गर्म किया है, जो सर्दियों में अरब सागर की ओर  बहती हैं, और इसकी तीव्रता कम हो जाती है। अध्ययन में पाया गया कि हिमालय में बर्फ के चादर और 1960 के बाद से अरब सागर में अकार्बनिक नाइट्रेट्स की गिरावट के बीच एक सीधा संबंध है। "पिछले चार दशकों में, अरब सागर ने अकार्बनिक नाइट्रेट का गहरा नुकसान अनुभव किया है। संभवतः, यह स्थायी ऑक्सीजन न्यूनतम क्षेत्र के विस्तार के कारण बढ़ी हुई विनाइट्रीकरण  के कारण है, ”शोधकर्ताओं ने कहा।

कयामत का फूल

वैश्विक स्तर पर नोक्टिलुका के खिलने से पता चलता है कि भोजन बनाने वाले समुद्री जीव, गर्म होती हुई जलवायु के कारण समुद्री जल में भौतिक और जैव रासायनिक परिवर्तनों के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करते हैं.। जलवायु परिवर्तन की छवियाँ हिमनदों के पिघलने और घटती हुई बर्फ की रेखाओं तक सीमित नहीं हैं।

"मुझे लगता है कि समय आ गया है कि इन छवियों के साथ साथ अपने पास की उष्णकटिबंधीय,अंधेरे में चमक रहे प्लवकों की छवियों का भी अवलोकन करें  ,” सुश्री मानकेश्वर आगे कहती हैं।

कम ऑक्सीजन की स्थिति  लगातार अरब सागर का एक स्थायी लक्षण बनने से, ऐसे वातावरण में बेहतर पनपने वाली अन्य प्रजातियाँ बढ़ेगी। भारतीय जल में मौसमी रूप से पाई जाने वाली जेलिफ़िश, अब नोक्टिलुका खिलने के कारण, ज़्यादा पनप रही है। वैसे तो ये विषैले नहीं होते हैं, लेकिन इनका फैलाव नाजुक समुद्री पारिस्थितिक तंत्र को बिगाड़ सकता है। प्लवक इनका चारा होते हैं अतः वे  व्यावसायिक रूप से मूल्यवान मछली, जैसे सार्डिन और एन्कोवी के लार्वा को खा जाते हैं।

अरब सागर में,ये फूल छोटे पैमाने के मछुआरों की आजीविका को प्रभावित करने लगे हैं। शोर-साइनर्स और गिल-नेटर्स जेलीफ़िश के थोक- शिकार के साथ पकड़ में आ जाते  हैं,जिसका कोई बाजार मूल्य नहीं है।

“हालाँकि, भारतीय जल में हमारी जाँच अभी शुरुआती दौर में है, हम अनुमान लगा सकते हैं कि,काफी समय के बाद, इन प्लवकों के खिलने से,  कुछ व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण प्रजातियों की पकड़ में कमी आ सकती है, ”सुश्री मानकेश्वर कहती हैं

हालाँकि, इस कथानक का  एक उज्जवल पक्ष भी है। ऑक्सीजन के स्तर में कमी से मछलियों की मृत्यु दर में वृद्धि होती है और परिणामस्वरुप वे मर जाती हैं। ये घटनाएँ स्थानीय मछुआरों को अल्पकालिक आर्थिक लाभ प्रदान करती हैं क्योंकि वे ऐसी अधिक मृत्यु की स्थिति में अत्यधिक शिकार प्राप्त कर पाते  हैं।

अध्ययन से पता चलता है कि हम जलवायु परिवर्तन  की  चेतावनी को  काफी पीछे छोड़ चुके हैं, और अब इनका प्रभाव हमारे महासागरों में विभिन्न प्रकार के जीवों को प्रभावित कर रहा  है। हालाँकि, इस परस्पर प्रक्रिया को पूरी तरह से समझने के लिए, हमें और अधिक ऐसे आँकड़ों की आवश्यकता होगी जैसे इस अध्ययन से हमने प्राप्त किये हैं ।

भारतीय तट रेखाओं के आस पास जीव दीप्ति के खिलने पर आँकड़े , जो फिलहाल अपर्याप्त हैं,  इनके मौसमी रुझानों को स्थापित करने के लिए आवश्यक हैं । नागरिक विज्ञान के माध्यम से इन घटनाओं का सुव्यवस्थित प्रलेखन इनके खिलने के तरीकों की निगरानी करने में लाभदायक होगा, ”सुश्री मानकेश्वर आग्रह पूर्वक कहती हैं ।