Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

UGC

हैदराबाद | जून 15, 2020
वैज्ञानिकों ने प्रमुख जीन की पहचान की जो चावल को पानी की कमी के अनुकूल बनाने में मदद करते हैं

बहुत जल्द, दुनिया में जनसंख्या विस्फोट और पानी की कमी से  शायद आपको बिरयानी की थाली और कई लोगों को अपनी आजीविका से हाथ धोना पड़ सकता है। दुनिया भर में पानी की कमी के कारण हाल के वर्षों में दुनिया के लगभग ३.५ अरब से अधिक लोगों के लिए उनका मुख्य भोजन, चावल खतरे में आ गया है। परंपरागत रूप से, चावल  एक अधिक पानी की ज़रुरत वाली फसल है, जिसे खेतों में पानी भरकर उगाया जाता है। कृषि में पानी के संरक्षण का बढ़ता दबाव निश्चित तौर पर चावल पर पड़ता है क्योंकि एक किलोग्राम अनाज का उत्पादन करने के लिए लगभग ४०००-५००० लीटर पानी की आवश्यकता होती है!

General, Science, Deep-dive
UGC की  सदस्यता लें!