शीघ्र आने को है : एक टेबलटॉप काइरल एटोसेकंड लेजर

कई परमाणुओं से मिलकर जब अणु निर्मित होते हैं, तो इन परमाणुओं के जुड़ने की प्रक्रिया पृथक-पृथक हो सकती है। एक ही अणु के दो रूपों की संरचना समान हो सकती है किन्तु यदि परमाणुओं की व्यवस्था पृथक-पृथक होती है तो समभारी (आइसोमर्स) बनते हैं। कुछ समभारियों में ऐसी संरचनाएं हो सकती हैं जो एक दूसरे की दर्पण छवियां (मिरर इमेज) हों। ऐसे अणुओं को काइरल अणु कहते हैं। वैज्ञानिक ऐसे अणुओं के अध्ययन में रुचि रखते हैं, उदाहरण स्वरुप पेनिसिलिन, क्योंकि इसके अणुओं की एक व्यवस्था जीवन रक्षक हो सकती है जबकि दूसरी घातक हो सकती है!

Shanay Rab (शाने रब)

Job Title
Translator

 

I am a Mechanical engineer, who hails from Roorkee, Uttrakhand. I did my Masters from IIT(ISM)-Dhanbad, specialising in Machine Design and currently pursuing a PhD at Jamia Millia Islamia and CSIR-National Physical Laboratory, New Delhi, in the area of high pressure metrology. Apart from being passionate towards science communication, I enjoy photography, reading and traveling. 

Twitter Username