Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

Ecology

मुम्बई | सितंबर 19, 2022
प्लास्टिक फिल्म आस्तरित  खेत तालाब अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में पानी की कमी को बढ़ाते हैं

फलोद्यानों में बने खेत के प्लास्टिक फिल्म आस्तरित तालाबों का अध्ययन और समाज पर इसके प्रभाव

General, Science, Ecology, Society, Deep-dive
मुंबई | सितंबर 7, 2022
नन्हे प्लास्टिक प्रदूषकों का पता लगाने हेतु सूक्ष्म तरंग (माइक्रोवेव) विकीरण

सूक्ष्म तरंग (माइक्रोवेव) विकीरण का उपयोग करते हुए नन्हे अदृश्य प्लास्टिक प्रदूषकों की उपस्थिति ज्ञात करने हेतु शोधकर्ताओं ने एक नूतन तकनीक विकसित की है।

General, Science, Technology, Ecology, Deep-dive
Madurai | फ़रवरी 7, 2022
मदुरै की ऐतिहासिक जल-संभर प्रणाली को पुनर्जीवित करने हेतु तत्काल नीति परिवर्तन का आह्वान

क्षेत्रीय जल संकट निदान हेतु आईआईटी मुंबई के शोधकर्ता मदुरै की ऐतिहासिक जल-संभर प्रणाली की पुनर्स्थापना हेतु प्रयासरत 

General, Science, Engineering, Ecology, Society, Deep-dive
मुंबई | जनवरी 10, 2022
औद्योगिक कार्बन डाइऑक्साइड के शुद्धिकरण के लिए एक सरंध्र ('स्पंजी') तरल का उपयोग

शोधकार्य, एक सरंध्र तरल, सम्मिश्रण के उपयोग का सुझाव देता हैं जिससे औद्योगिक अपशिष्टों से अवशोषित कार्बन-डाइऑक्साइड को कैल्शियम कार्बोनेट में परिवर्तित किया जा सकता है।

General, Science, Technology, Ecology, Deep-dive
मुंबई | अप्रैल 12, 2021
मानव-वन्यजीवन अंत:क्रियाओं का अध्ययन: हमें संघर्ष से परे देखने की आवश्यकता क्यों है

शोधकर्ताओं ने  मानव-वन्यजीवन सहअस्तित्व और आगे की राह में आने वाली चुनौतियों पर चर्चा की

General, Science, Ecology, Society, Deep-dive
मुंबई | मार्च 8, 2021
चक्रवात फैलिन से समुद्री मछुआरा समुदाय की बहाली

शोधकर्ताओं ने चक्रवात फैलिन के बाद के सामाजिक, आर्थिक, मानवीय और शारीरिक कारकों जो बहाली के प्रेरक और कारण बने, की जाँच की 

General, Science, Ecology, Deep-dive
बेंगलुरु | जनवरी 11, 2021
प्रतिबंध के बावजूद, भारत में पशु चिकित्सा के उपयोग में आने वाली गिद्ध घातक दवा डाइक्लोफेनाक व्यापक रूप से बेची जाती है

एक गुप्त सर्वेक्षण में पाया गया है कि कैसे दवा की दुकानों में आसानी से मिलने वाली प्रतिबंधित डाइक्लोफेनाक और अन्य गिद्ध-  घातक दवाएं दक्षिण एशिया में धीरे-धीरे बढ़ने वाली गिद्ध आबादी के लिए  खतरा बनती जा रही है।

General, Science, Ecology, Society, Deep-dive
बेंगलुरु | नवंबर 30, 2020
हिमालय की बर्फ धीमी गति से पिघल रही है जिसके कारण समुद्र अरब सागर में चमकीली अल्गल फल फूल रही है।

अगस्त 2019 में चेन्नई के समुद्र तटों के पास नॉक्टिलुका के प्लवक खिलने के रंग बिरंगे प्रदर्शनों के गवाह बने जिससे अंधेरे में एक सुंदर चमकीला नियोन नीला रंग दिखा । इन नन्हें  प्राणियों की जीवदीप्ति से प्रेरित होकर लोगों ने रंग बिरंगी लहरों के नृत्य को तस्वीरों और वीडियो रूप में इसे साझा किया। लेकिन यह  समुद्र की चमक  (नोक्टिलुका स्किन्टिलन)  खुशी का कोई कारण नहीं है क्योंकि वे इस बात का एक गंभीर संकेत हैं कि जलवायु परिवर्तन हमारे महासागरों को कैसे प्रभावित कर रहे हैं। और हाँ हाल के वर्षों में नोक्टिलुका ने सबसे आम प्लवक जिसे समुद्र में डायटम के रूप में जाना जाता ह

General, Science, Ecology, Deep-dive
Mumbai | सितंबर 21, 2020
Soil check: How much water does your soil contain?

चित्र: यान कोपरिवा, अनस्प्लैश

शोधकर्ताओं ने मिट्टी की आर्द्रता जाँचने के लिए सूक्ष्म ग्रैफीन कणों की मदद से एक सेंसर विकसित किया हैं।

General, Science, Technology, Ecology, Deep-dive
Ecology की  सदस्यता लें!