Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

Society

मुंबई | अक्टूबर 3, 2019
मूत्राशय का अभिकलनात्मक ( कॉम्प्यूटेशनल ) मॉडल

मूत्र को रोके रखने वाली माँसपेशियों का संचालन करने वाली वैद्युतीय गतिविधियाँ  मूत्र असंयमिता (Urinary Incontinence)   को समझने की कुंजी हैं। 

General, Science, Technology, Health, Society, Deep-dive
मुंबई | अगस्त 12, 2019
शोधकर्ताओं ने ग्रामीण उद्यमिता को बढ़ावा देने, स्थायी आजीविका पैदा करने और गरीबी से निपटने के लिए एक मॉडल तैयार किया है

शोधकर्ताओं ने ग्रामीण उद्यमिता को बढ़ावा देने, स्थायी आजीविका पैदा करने और गरीबी से निपटने के लिए एक मॉडल तैयार किया है

General, Science, Society, Deep-dive
मुंबई | जुलाई 29, 2019
आर्किमिडीस और भास्कर की पद्धतियों से गणित के शिक्षण में मदद मिल सकती है !

शोधकर्ताओं ने तुलना की है कि कैसे ग्रीक और भारतीय गणितज्ञों ने एक गोले का तल -क्षेत्रफल मापा

General, Science, Society, Deep-dive
बेंगलुरु | जुलाई 23, 2019
एक अध्ययन के अनुसार, एशिया में तंबाकू की महामारी तेजी से बढ़ रही है

शोधकर्ताओं ने चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, ताइवान और भारत में धूम्रपान प्रवृत्तियों का अध्ययन किया।

General, Science, Health, Society, Deep-dive, Infographics
बेंगलुरु | जुलाई 15, 2019
भारत में हर साल बच्चों में दमा (अस्थमा) के लगभग ३.५ लाख नए मामले सामने आ रहे है

वैश्विक अध्ययन कहता है कि वाहनों से होने वाले वायु प्रदूषण के कारण दमा दुनिया भर के लाखों बच्चों को प्रभावित करता है।

General, Science, Health, Society, News
मुंबई | जुलाई 1, 2019
कपास की खेती  में कीटनाशकों की लागत में कटौती हेतु शोध

अध्ययन से पता चला है कि कैसे भूमि के आकार, सिंचाई और किरायेदारी के आधार पर किसान कपास के खेतों में कीटनाशकों पर खर्च करते हैं

General, Science, Ecology, Society, Deep-dive
कानपुर | जून 24, 2019
क्या सोशल नेटवर्क चुनाव परिणामों में निहित विस्मय पर पानी फेर सकता है ?

२०१९ का वर्ष, और विश्व के सबसे वृहद लोकतंत्र भारत में चुनाव, अपने पूरे उमंग और ज़ोर शोर के साथ अभी-अभी सम्पन्न हुआ है । बीते अन्य वर्षों के समान, ९०करोड़ लोगों का उत्साह बढ़ाने एवं अपने मताधिकार के उपयोग के लिए उन्हें प्रेरित करने के बाद कई पुराने कीर्तिमान टूटे और नए स्थापित

General, Science, Society, Deep-dive
पुदुचेरी | जून 17, 2019
बिहार में प्रचलित कुष्ठ रोग का गलत निदान, अध्ययन में पाया गया

कुछ अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के समूह ने हाल ही के एक नए अध्ययन में बिहार में कुष्ठ रोग के निदान के लिए एक सरकारी सहायता प्राप्त कार्यक्रम की कुछ अप्रिय वास्तविकता का खुलासा किया है। साथ ही इस बात का अनुमान लगाया है कि कैसे इस कुष्ठ रोग का सटीक निदान हो सके। ये वैज्ञानिक डेमियन फाउंडेशन इंडिया ट्रस्ट, डेमियन फाउंडेशन, बेल्जियम, जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, पुदुचेरी, इंटरनेशनल यूनियन फॉर ट्यूबरकुलोसिस एंड लंग डिजीज, फ्रांस औ

General, Science, Health, Society, Deep-dive
Society की  सदस्यता लें!